An effort to solve the lack of oxygen

An effort to solve the lack of oxygen
An effort to solve the lack of oxygen


UP को भी Air Force  के विमान उपलब्ध कराए गए                                                                                           

UP को भी Air Force  के विमान उपलब्ध कराए गए  : यूपी सरकार की मांग पर उसे भी Air Force के विमान उपलब्ध कराए गए है जो खाली टेंकर लेकर जा रहे है सिंगापुर के साथ UAE से भी टेंकर लाए जा रहे है वायु सेना ने जर्मनी से 23 Oxygen जनरेसन पलांट लाने का फैसला किया है ताकि देश में  Oxygen  का उत्पादन तेजी से बढ़ाया जा सके 


Time बचाने को Air and Rail  सेवा का हो रहा उपयोग 

Time बचाने को Air and Rail  सेवा का हो रहा उपयोग : सबसे महत्पूर्ण है समय पर  Oxygen की आपूर्ति सुनिश्चित करना  इसके लिए जितना समय बच सके उसके हिसाब से Air and Rail  मार्ग का पूरी क्षमता से उपयोग किया जा रहा है ! Air Force  ने अपनी C - 17 मालवाहक विमानों के साथ IAL-76 , AAN - 32 और एवरो विमानों को भी इस काम में लगया हुआ है 


Spicejet ने हांगकांग से 800 टेंकर Delhi पहुंचाया 

Spicejet ने हांगकांग से 800 टेंकर Delhi पहुंचाया  : Spicejet  की एयर कार्गो शाखा स्पाइस एक्सप्रेस देश भर में आपातकालीन उपयोग और वितरण के लिए हांगकांग से 800 Oxygen टेंकर लेकर आई है  Spice एक्सप्रेस K B - 737 मालवाहक विमानों ने इन सामानो की खेप को पहुंचाया Oxygen की यह खेप कोलकाता होते हुए 7 बजे Delhi  पहुंच गयी  


Oxygen कैसे बनती और पहुंचाई जाती है अस्पतालों तक 

Oxygen कैसे बनती और पहुंचाई जाती है अस्पतालों तक  : Oxygen तैयार करने के कई तरीके है जिनमे सबसे प्रचलित है सेपरेशन तकनीक हवा में करीब 21 फीसदी Oxygen  होती है मशीनों के जरिए कंप्रेस कर और फ़िल्टर कर Oxygen को बाकि गेसो से अलग कर लिया जाता है  ! अलग की गई Oxygen को मास्टर फ़िल्टर से गुजरा जाता है ताकि उसकी अशुद्धियो को छाना जा सके 

( Oxygen कैसे बनती और पहुंचाई जाती है अस्पतालों तक )   इस छनि हुई Oxygen को ठंडा किया जाता है माइनस 83 डिग्री पर Oxygen द्रव रूप में बदल जाती है इसकी शुद्धता 99.5% होती है  इस ठंडी Oxygen केप्सूल में भरकर Oxygen वितरक के प्लांट तक पहुंचया जाता है जंहा विशाल सिलेंडरों में इसे भरा जाता है लिक्विड Oxygen को वेपोराइजर की मदद से वापस गैस में बदल दिया जाता है अब यह गैस सिलेंडरों में अथवा सीधे सफ्लाई के जरिए इस्तेमाल के योगय बन जाती है   

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

यह ब्लॉग खोजें

Blog Archive

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *